संथाल जनजाति का सामान्य परिचय

  • संथाल झारखण्ड की प्रमुख जनजाति है। झारखण्ड की जनजाति में सबसे अधिक संख्या संथालों की है।

  • प्रजातीय दृष्टि से संथाल को प्रोटो-ऑस्ट्रोलॉयड श्रेणी में रखा गया है।
  • प्रजातीय और भाषिक दृष्टि से संथाल जनजाति आस्ट्रिक जनजाति के बहुत नजदीक है।
  • इनकी बहुलता के कारण ही राज्य का उत्तर-पूर्वी भाग संथाल परगना कहलाता है।
  • राजमहल पहाड़ियों में इनके निवास स्थल को दामिन-ए-कोह कहा जाता है।
  • झारखण्ड में संथालों का मुख्य निवास स्थल संथाल परगना है।
  • यह जनजाति ‘संथाल परगना’ के अतिरिक्त हजारीबाग, बोकारो, गिरिडीह, चतरा, रांची, सिंहभूम, धनबाद, लातेहार तथा पलामू में पर भी पायी जाती है।
  • संथालों में कुल 12 गोत्र पाये जाते हैं। ये हैं- हांसदा, मुर्मू, हेम्ब्रम, किस्कू, मरांडी, सोरेन, बास्के, टुडु, पौड़िया, बेसरा, चोंडे और बेदिया।
  • इनके के त्योहारों का प्रारंभ आषाढ़ महीना से होता है। इनके प्रमुख त्योहार बाहा/बा, ऐरोक, सरहुल, करम, बंधना, हरियाड, जापाड, सोहराई, सकरात, माघसिम और हरिहारसिम हैं।
  • संथालों का उत्सवप्रिय त्योहार सोहराई फसल कटने के समय मनाया जाता है।
  • संथालों के सबसे बड़े देवता को सिंगबोंगा या ठाकुर कहा जाता है।

  • संथाल समाज में ठाकुरजी को विश्व का विधाता माना जाता है।
  • संथालों का दूसरा प्रमुख देवता मरांग बुरू है।
  • संथालों के मुख्य ग्राम-देवता जाहेर-एरो है, जिसका निवास स्थान साल वृक्षों से घिरा ‘जाहेर थान’ होता है।
  • नायके संथाल गांव का धार्मिक प्रधान होता है।
  • संथाल गांव की पंचायतें मांझीथान में बैठती हैं।
  • मांझी संथाल गांव का प्रधान होता है।
  • बिटलहि संथाल समाज में सबसे कठोर सजा है। यह एक तरह का सामाजिक बहिष्कार है।
  • संथाल जनजाति संथाली बोली बोलती है, जिसका संबंध आस्ट्रो – एशियाई भाषा परिवार से है। संथाली बोली की लिपि ओलचिकी है।
  • 92वें संविधान संशोधन (2003) के द्वारा संथाली भाषा को संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल कर लिया गया है।

  • संथाल परिवार का कर्ता-धर्ता व प्रधान पिता होता है।
  • इनके समाज चार ‘हडो’ (वर्ग/वर्ण)- किस्कू हड (राजा), मुर्मू हड (पुजारी), सोरेन हड (सिपाही) और मरुडी हड (कृषक) में विभक्त है।
  • सन्थालों में युवागृह को घोटलू कहा जाता है।
  • संथाल जनजाति एक अन्तर्विवाही जनजाति है, जिनके बीच समगोत्रीय विवाह वर्जित है।
  • प्रायः संथाल में एक विवाह की प्रथा है, किन्तु विशेष परिस्थिति में दूसरी पत्नी रखने की छूट है।
  • संथाल समाज में बाल-विवाह की प्रथा नहीं है।
  • संथालों में विवाह समारोह को बापला कहा जाता है।
  • संथालों में आठ प्रकार के विवाह प्रचलित हैं। ये हैं- किरिंग बापला, किरिंग जबाई, टुनकी दिपिल बापला, घर की जंवाई, निर्बोलोक, इतुत, सांगा और सेवा विवाह।
  • किरिंग बापला सर्वाधिक प्रचलित विवाह है। यह विवाह माता-पिता द्वारा ‘अगुवा’ (मध्यस्थ) के माध्यम से तय किया जाता है।
  • संथालों में वर-पक्ष की ओर से कन्या-पक्ष को दिया जाने वाला वधु-मूल्य पोन कहलाता है।
  • इस जनजाति में शव को जलाने और दफनाने दोनों प्रकार की प्रथाएं हैं।
  • संथालों का मुख्य पेशा कृषि है।

झारखण्ड के आदिवासियों और जनजातियों :  click hear to read :

संथाल;         उरावं;      मुण्डा;       हो;        खरवार;

खड़िया;        भूमिज;     लोहरा;        गोंड;    माहली;

माल पहाड़िया;    बेदिया;        चेरो;     चीक बड़ाइक;

सौरिया पहाड़िया;         कोरा;     परहिया;     किसान; 

कोरवा;         बिंझिया;       असुर;        सबर;      खोंड;

गोड़ाइत;    बिरहोर;   करमाली;     बिरजिया;       बैगा;

बथुडी;       बंजारा;      कवर;            कोल