हो जनजाति का सामान्य परिचय

हो जनजाति : –

  • जनसंख्या की दृष्टि से हो झारखण्ड की चौथी प्रमुख जनजाति है।
  • प्रजातीय दृष्टि से हो को प्रोटो-ऑस्ट्रोलॉयड की श्रेणी में रखा जाता।
  • यह जनजाति मुख्य रूप से कोल्हान प्रमण्डल में पायी जाती है।
  • इनके 80 से भी अधिक गोत्र हैं, जिनमें अंगारिया, बारला, बोदरा, बालमुचू, हेम्ब्रम, चाम्पिया, हेमासुरीन, तामसोय आदि प्रमुख हैं।
  • सिंगबोंगा इनके प्रमुख देवता हैं।
  • इनके अन्य प्रमुख देवी-देवता पाहुई बोंगा (ग्राम देवता), ओटी . बोड़ोंम (पृथ्वी), मरांग बुरू, नागे बोंगा आदि हैं। इनमें देसाउली को वर्षा का देवता माना जाता है।
  • हो समाज में धार्मिक अनुष्ठान का कार्य देउरी पुरोहित द्वारा सम्पन्न कराया जाता है।
  • हो गांव का प्रधान मुंडा होता है और उसका सहायक डाकुआ कहलाता है।
  • मानकी मुंडा प्रशासन हो जनजाति की पारम्परिक जातीय शासन प्रणाली है।
  • माघे, बाहा, डमुरी, होरो, जोमनामा, कोलोभ, बतौली आदि इनके प्रमुख पर्व हैं। इनके प्रायः सभी पर्व कृषि व कृषि कार्य से जुड़े हैं।
  • इनकी भाषा हो है, जो मुंडारी (आस्ट्रिक) परिवार की है।

  • हो लोगों ने कुछ पहले अपनी-एक लिपि बार चित्ति बनाई है।
  • हो लोग अखड़ा को स्टे: तुरतु कहते हैं
  • इस जनजाति का परिवार पितृसत्तात्मक एवं पितृवंशीय होता है।
  • होजनजाति में मुख्य रूप से पांच प्रकार के विवाह प्रचलित हैं -आंदि बपला, दिकू आंदि, राजी-खुशी, ओपोरतिपि एवं अनादर।
  • सेवा विवाह एवं गोलट विवाह के भी इक्के-दुक्के उदाहरण इनमें मिलते हैं। सर्वाधिक प्रचलित विवाह आदि विवाह है।
  • हो जनजाति में समगोत्रीय विवाह पूर्णतः वर्जित है।
  • इनमें घर-जमाई का प्रचलन नहीं है।
  • इस जनजाति में बहुविवाह का भी प्रचलन है।
  • इनमें शव को जलाने और गाड़ने दोनों प्रकार की प्रथाएं हैं।
  • मद्यपान इनका प्रिय शौक है।
  • खेती इनका मुख्य पेशा है।

Also read: Self Governance module of tribes community.  ,  Adi dharnta: Sarana

झारखण्ड के आदिवासियों और जनजातियों :  click hear to read :

संथाल;         उरावं;      मुण्डा;       हो;        खरवार;

खड़िया;        भूमिज;     लोहरा;        गोंड;    माहली;

माल पहाड़िया;    बेदिया;        चेरो;     चीक बड़ाइक;

सौरिया पहाड़िया;         कोरा;     परहिया;     किसान; 

कोरवा;         बिंझिया;       असुर;        सबर;      खोंड;

गोड़ाइत;    बिरहोर;   करमाली;     बिरजिया;       बैगा;

बथुडी;       बंजारा;      कवर;            कोल