GEOGRAPHY OF JHARKHAND

झारखण्ड का भूगोल

भारत के पूर्व में स्थित झारखण्ड राज्य, झाड़ों अर्थात् जंगलों का प्रदेश होने के कारण झारखण्ड कहलाता है। झारखण्ड 22° उत्तरी अक्षांश से 24° 50′ उत्तरी अक्षांश तथा 83°2′ पूर्वी देशांतर से 88° पूर्वी देशांतर के मध्य स्थित है। कर्क रेखा (231/2° उत्तरी अक्षांश) राज्य के मध्य से होकर गुजरती है। कर्क रेखा पर स्थित झारखण्ड के स्थल हैं- नेतरहाट, किस्को, ओरमांझी, गोला, मुरहुलमुदी, गोपालपुर, पोखन्ना, गोसाईडीह, झालबरदा व पालकुदरी। झारखण्ड का कुल क्षेत्रफल 79,714 वर्ग किलोमीटर है, जो कि देश के कल क्षेत्रफल का 2.42% है। जिसमें से 23611 वर्ग किमी (29.62%) वन भूमि है। कृषि और संबद्ध गतिविधियाँ झारखंड की अर्थव्यवस्था का प्रमुख स्रोत हैं। कुल खेती योग्य भूमि केवल 38 लाख हेक्टेयर है।

यह क्षेत्रफल की दृष्टि से देश के राज्यों में 15वां स्थान रखता है। झारखण्ड राज्य उत्तर से दक्षिण 380 किमी. लम्बाई तथा पूर्व से पश्चिम 463 किमी. चौड़ाई में विस्तृत है।

स्थिति तथा विस्तार

झारखण्ड राज्य भारतीय उपमहाद्वीप के पूर्वी भाग में स्थित है। इसकी भौगोलिक स्थिति 21°58’10” से 25°19’15” उत्तरी अक्षांश तथा 83°19’50” से 87°57′ पूर्वी देशांतर के मध्य है। इस राज्य का विस्तार उत्तर से दक्षिण तक 380 किलोमीटर तथा पूर्व से पश्चिम तक 463 किलोमीटर है। इस राज्य का कुल क्षेत्रफल 79,714 वर्ग किलोमीटर है, जो भारत के कुल क्षेत्रफल का 2.34% है। क्षेत्रफल की दृष्टि से झारखण्ड का स्थान देश में 15वां है। इस राज्य की कुल जनसंख्या 2,69,45,829 है, जो भारत की कुल जनसंख्या का 2.62% है। जनसंख्या की दृष्टि से झारखण्ड का स्थान देश में 13वां है।

झारखण्ड राज्य की सीमाएँ 5 राज्यों को स्पर्श करती हैं। इसके उत्तर में बिहार, दक्षिण में उड़ीसा, पूर्व में पश्चिम बंगाल एवं पश्चिम में उत्तर प्रदेश व छत्तीसगढ़ हैं। हरियाणा, मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के समान झारखण्ड एक स्थलबद्ध/भू-आवेष्टित राज्य (Land-Locked state) है। झारखण्ड की भौगोलिक सीमा कहीं भी समुद्र को स्पर्श नहीं करती है। झारखण्ड से समुद्र तट की निकटतम दूरी 90 किलोमीटर है। कर्क रेखा झारखण्ड राज्य के लगभग मध्य से होकर गुजरती है। झारखण्ड राज्य का आकार चतुर्भुज के समान है।

Previous Page:JHARKHAND HISTORY

Next Page :झारखण्ड की भूगर्भिक संरचना